भगवान दत्तात्रेय के 24 गुरु

भगवान दत्तात्रेय का 24 गुरुओं से शिक्षा ग्रहण करने का पौराणिक प्रसंग जीवन में गुरु की महत्ता को रोचक तरीके से उजागर करता है। क्योंकि ये 24 गुरुओं मात्र इंसान ही नहीं बल्कि पशु, पक्षी व कीट-पतंगे भी शामिल हैं।
  1. पृथ्वी- सहनशीलता व परोपकार की भावना।
  2. कबूतर – कबूतर का जोड़ा जाल में फंसे अपने बच्चों को देखकर मोहवश खुद भी जाल में जा फंसता है। सबक लिया कि किसी से भी ज्यादा स्नेह दुःख की वजह होता है।
  3. समुद्र- जीवन के उतार-चढ़ाव में खुश व संजीदा रहें।
  4. पतंगा- जिस तरह पतंगा आग की तरफ आकर्षित हो जल जाता है। उसी तरह रूप-रंग के आकर्षण व मोह में न उलझें।
  5. हाथी – आसक्ति से बचना।
  6. छत्ते से शहद निकालने वाला – कुछ भी इकट्ठा करके न रखें, ऐसा करना नुकसान की वजह बन सकता है।
  7. हिरण – उछल-कूद, संगीत, मौज-मस्ती में न खोएं।
  8. मछली – स्वाद के वशीभूत न रहें यानी इंद्रिय संयम।
  9. पिंगला वेश्या – पिंगला नाम की वैश्या से सबक लिया कि केवल पैसों की आस में न जीएं। क्योंकि पैसा पाने के लिए वह पुरुष की राह में दुखी हुई व उम्मीद छोड़ने पर चैन से नींद ली।
  10. कुरर पक्षी – चीजों को पास में रखने की सोच छोड़ना। यानी अकिंचन होना।
  11. बालक – चिंतामुक्त व प्रसन्न रहना।
  12. कुमारी कन्या – अकेला रह काम करना या आगे बढ़ना। धान कूटते हुए इस कन्या की चूड़ियां आवाज कर रही थी। बाहर मेहमान बैठे होने से उसने चूड़ियां तोड़ दोनों हाथों में बस एक-एक चूड़ी रखी और बिना शोर के धान कूट लिया।
  13. शरकृत या तीर बनाने वाला – अभ्यास और वैराग्य से मन को वश में करना।
  14. सांप – एकाकी जीवन, एक ही जगह न बसें।
  15. मकड़ी – भगवान भी माया जाल रचते हैं और उसे मिटा देते हैं।
  16. भृंगी कीड़ा –अच्छी हो या बुरी, जहां जैसी सोच में मन लगाएंगे मन वैसा ही हो जाता है।
  17. सूर्य – जिस तरह एक ही होने पर भी अलग-अलग माध्यमों में सूरज अलग-अलग दिखाई देता है। आत्मा भी एक है पर कई रूपों में दिखाई देती है।
  18. वायु – अच्छी बुरी जगह पर जाने के बाद वायु का मूल रूप स्वच्छता ही है। उसी तरह अच्छे-बुरों के साथ करने पर भी अपनी अच्छाइयों को कायम रखें।
  19. आकाश – हर देश काल स्थिति में लगाव से दूर रहे।
  20. जल – पवित्र रहना।
  21. अग्नि – हर टेढ़ी-मेढ़े हालातों में ढल जाएं। जैसे अलग-अलग तरह की लकड़ियों के बीच आग एक जैसी लगती नजर आती है।
  22. चन्द्रमा – आत्मा लाभ-हानि से परे है। वैसे ही जैसे कला के घटन-बढ़ने से चंद्रमा की चमक व शीतलता वही रहती है।
  23. भौंरा या मधुमक्खी – भौरें से सीखा कि जहां भी सार्थक बात सीखने को मिले न छोड़ें।
  24. अजगर – संतोष, जो मिल जाए उसे स्वीकार कर लेना।

(संकलित)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.