संपूर्ण भागवत कथा मराठी मध्ये – भाग १ ते ७ | Devi Vaibhavishriji – Shrimad Bhagwat Katha Marathi


marathi bhagwat katha,bhagwat katha marathi madhe,bhagwat katha marathi video,bhagwat puran marathi,marathi shrimad bhagwat katha,shrimad bhagwat katha marathi madhe,भागवत कथा मराठी,भागवत कथा मराठी मध्ये,मराठी भागवत कथा,मराठी श्रीमद भागवत कथा,marathi bhagwat katha video,devi vaibhavishriji marathi,marathi bhagwat katha mp3,मराठी भागवत कथा विडिओ,devi vaibhavishriji,एकनाथ भागवत मराठी,भागवत पुराण कथा,devi vaibhavishriji bhajan,vaibhavishriji bhagwat katha

Ramayana: Ravana goes to Raja Bali for help


During the fight for Lanka, Ravana was feeling that he wasn’t going to win. So he went down to the lower planetary systems where Bali has his abode. He was thinking, “I’m not winning this battle, so let me get the help of Bali, the King of the demons.” So he went way down to…

चौदह वर्ष के वनवास के दौरान श्रीराम कहाँ कहाँ रहे?


जाने-माने इतिहासकार और पुरातत्वशास्त्री अनुसंधानकर्ता डॉ. राम अवतार ने श्रीराम और सीता के जीवन की घटनाओं से जुड़े ऐसे 200 से भी अधिक स्थानों का पता लगाया है, जहां आज भी तत्संबंधी स्मारक स्थल विद्यमान हैं, जहां श्रीराम और सीता रुके या रहे थे। वहां के स्मारकों, भित्तिचित्रों, गुफाओं आदि स्थानों के समय-काल की जांच-पड़ताल वैज्ञानिक तरीकों से की। आओ जानते हैं कुछ प्रमुख स्थानों के बारे में;

कभी न करें गुरु की निंदा


गुरु चाहे गूंगा हो, चाहे गुरु बाबरा हो (पागल हो) गुरु का हमेशा दास रहना चाहिए। गुरु यदि नरक को भेजे तब भी शिष्य को यह इच्छा रखनी चाहिए कि मुझे स्वर्ग प्राप्त होगा। माना जाता है कि यदि शिष्य को गुरु पर पूर्ण विश्वास हो तो उसका बुरा स्वयं गुरु भी नहीं कर सकते।

Does the planet Saturn affect people’s lives?


Saturn takes 30 years to take one circle around the Sun, so it stays for around 2.5 years in each constellation or zodiac sign. The period can extend up to 5 years or 7.5 years. This is why people feel so desperate; they have a problem with their relationship, money, job, all sorts of problems for 2.5 years to 7.5 years.

भागवत धर्म में सर्वाधिकार


आज के युग में स्त्रियों को किस प्रकार की शिक्षा की आवश्यकता है, एक शिष्य के इस प्रकार पूछे जाने पर स्वामी जी ने कहा – छात्राओं को जीवन में सीता, सावित्री, दमयन्ती, लीलावती और मीराबाई का चरित्र सुना-पढ़ाकर अपने जीवन को इसी प्रकार समुज्ज्वल करने का उपदेश दें, इसके साथ ही शिल्प, विज्ञान, गृहकार्य एवं सुरक्षा की शिक्षा भी आवश्यक है ।

पुरूषोत्तम मास का महत्व


ऐसा माना जाता है कि अधिकमास में किए गए धार्मिक कार्यों का किसी भी अन्य माह में किए गए पूजा-पाठ से 10 गुना अधिक फल मिलता है।

वर्तमान रामायण

Devi Vaibhavishriji | Shrimad Bhagwat Katha | Srimad Devi Bhagavatam | Ram Katha | Shiv Maha Puran | Art of Living Programs

रामायण ७,५०० वर्ष पूर्व घटित हुई |उसका जर्मनी और यूरोप और पूर्व के कई देशो पर प्रभाव पड़ा | हजारों से अधिक नगरों का नामकरण राम से हुआ | जर्मनी मे रामबौघ, इटली मे रोम का मूल राम शब्द मे ही है | इंडोनेशिया, बाली और जापान सभी रामायण से प्रभावित हुये | वैसे तो रामायण इतिहास है परन्तु यह एक ऐसी अनंत घटना है, जो हर समय घटित होती रहती है |

%d bloggers like this: